Haryana

Haryana: विदेश भेजने के नाम पर बनाया बंधक, कोलकाता से नौ को कराया गया मुक्त, सरगना सुनील केजरीवाल की तलाश


पुलिस की गिरफ्त में आरोपी।
– फोटो : संवाद न्यूज एजेंसी

ख़बर सुनें

विदेश भेजने के नाम पर कोलकाता में बंधक बनाकर वसूली करने वाले गिरोह से कैथल पुलिस ने नौ युवक-युवतियों को मुक्त कराया है। इनमें आठ नेपाल व एक गुजरात का है। गिरोह के आठ गुर्गों को भी गिरफ्तार किया है। सरगना मुंबई निवासी सुनील केजरीवाल फरार हो गया। कोलकाता में की गई कार्रवाई के बाद धरे गए आरोपियों और उनके चंगुल से मुक्त कराए गए युवक-युवतियों को लेकर शुक्रवार रात पुलिस की टीम कैथल पहुंची। 

इसके बाद शनिवार को पत्रकारवार्ता में एसपी ने पूरे मामले का खुलासा किया। इससे पहले कोलकाता में बंधक बनाए गए गुजरात के एक युवक को कैथल पुलिस ने उसके परिजनों के हवाले कर दिया था। बंधक बनाए गए नेपाली युवकों से अब तक आरोपियों ने एक करोड़ रुपये से अधिक की वसूली की थी। इसके बावजूद उन्हें रिहा नहीं किया गया था। पीड़ितों के अनुसार, आरोपी इनके साथ मारपीट करते थे और परिजनों को फोन करवा झूठी सूचना देने को कहते थे कि उनके बच्चे विदेश जा चुके हैं। इसके बाद परिजन और राशि दे देते थे। 
 
मुख्य आरोपी की गिरफ्तारी के प्रयास तेज, जारी करवाएंगे रेड कार्नर नोटिस
गिरोह के आठ सदस्यों की गिरफ्तारी के बाद अब कैथल पुलिस मुख्य आरोपी सुनील केजरीवाल की गिरफ्तारी का प्रयास करेगी। एसपी मकसूद अहमद के अनुसार, इसके लिए रेड कॉर्नर नोटिस जारी कराया जाएगा। साथ ही संबंधित एजेंसियों को सूचित किया जाएगा, ताकि मुख्य आरोपी विदेश न भाग सके। 

एसपी मकसूद अहमद ने बताया कि कैथल के बाकल निवासी विक्रम को कनाडा भेजने के नाम पर कोलकाता में बंधक बनाया था। कैथल पुलिस ने 10 दिन पहले मुंबई में छापा मारकर गिरोह के पांच गुर्गों को गिरफ्तार किया था, जिन्हें लेकर कैथल पुलिस आठ दिन पहले कोलकाता गई थी। इस दौरान जहां विक्रम को बंधक बनाया था, मिनर्वा पार्क के निकट स्थित उस ठिकाने पर ताला लगा मिला। इसके बाद पुलिस ने डायमंड पार्क कोलकाता के निकट छापा मारा और गिरोह के आठ गुर्गों को गिरफ्तार करने के साथ-साथ बंधक बनाए गए नेपाल के छह युवक और दो युवतियों व गुजरात के अंकित को मुक्त करवाया। गिरफ्तार आरोपियों को कोर्ट में पेश कर 10 दिन के रिमांड पर लिया गया है।

विस्तार

विदेश भेजने के नाम पर कोलकाता में बंधक बनाकर वसूली करने वाले गिरोह से कैथल पुलिस ने नौ युवक-युवतियों को मुक्त कराया है। इनमें आठ नेपाल व एक गुजरात का है। गिरोह के आठ गुर्गों को भी गिरफ्तार किया है। सरगना मुंबई निवासी सुनील केजरीवाल फरार हो गया। कोलकाता में की गई कार्रवाई के बाद धरे गए आरोपियों और उनके चंगुल से मुक्त कराए गए युवक-युवतियों को लेकर शुक्रवार रात पुलिस की टीम कैथल पहुंची। 

इसके बाद शनिवार को पत्रकारवार्ता में एसपी ने पूरे मामले का खुलासा किया। इससे पहले कोलकाता में बंधक बनाए गए गुजरात के एक युवक को कैथल पुलिस ने उसके परिजनों के हवाले कर दिया था। बंधक बनाए गए नेपाली युवकों से अब तक आरोपियों ने एक करोड़ रुपये से अधिक की वसूली की थी। इसके बावजूद उन्हें रिहा नहीं किया गया था। पीड़ितों के अनुसार, आरोपी इनके साथ मारपीट करते थे और परिजनों को फोन करवा झूठी सूचना देने को कहते थे कि उनके बच्चे विदेश जा चुके हैं। इसके बाद परिजन और राशि दे देते थे। 

 

मुख्य आरोपी की गिरफ्तारी के प्रयास तेज, जारी करवाएंगे रेड कार्नर नोटिस

गिरोह के आठ सदस्यों की गिरफ्तारी के बाद अब कैथल पुलिस मुख्य आरोपी सुनील केजरीवाल की गिरफ्तारी का प्रयास करेगी। एसपी मकसूद अहमद के अनुसार, इसके लिए रेड कॉर्नर नोटिस जारी कराया जाएगा। साथ ही संबंधित एजेंसियों को सूचित किया जाएगा, ताकि मुख्य आरोपी विदेश न भाग सके। 

एसपी मकसूद अहमद ने बताया कि कैथल के बाकल निवासी विक्रम को कनाडा भेजने के नाम पर कोलकाता में बंधक बनाया था। कैथल पुलिस ने 10 दिन पहले मुंबई में छापा मारकर गिरोह के पांच गुर्गों को गिरफ्तार किया था, जिन्हें लेकर कैथल पुलिस आठ दिन पहले कोलकाता गई थी। इस दौरान जहां विक्रम को बंधक बनाया था, मिनर्वा पार्क के निकट स्थित उस ठिकाने पर ताला लगा मिला। इसके बाद पुलिस ने डायमंड पार्क कोलकाता के निकट छापा मारा और गिरोह के आठ गुर्गों को गिरफ्तार करने के साथ-साथ बंधक बनाए गए नेपाल के छह युवक और दो युवतियों व गुजरात के अंकित को मुक्त करवाया। गिरफ्तार आरोपियों को कोर्ट में पेश कर 10 दिन के रिमांड पर लिया गया है।




Source link

Related Articles

Back to top button