Haryana

हरियाणा पंचायत इलेक्शन में चुनाव चिन्ह को ‘ना’: भाजपा पहले चरण सिर्फ 3 जिले में ही कमल पर लड़ेगी’; 6 जिलों का इनकार

  • Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Haryana Panchayat Election 2022; BJP Election Symbol Updates; CM Manohar Lal, OP Dhankhar

चंडीगढ़एक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक

हरियाणा पंचायत चुनाव में भाजपा चुनाव चिन्ह कमल के फूल पर लड़ने से कतरा रही है। यही वजह है कि पहले चरण के जिला परिषद चुनाव में सिर्फ 3 जिलों में ही पार्टी अपने चुनाव चिन्ह पर लड़ेगी। 6 जिलों में बिना चिन्ह के भाजपा चुनाव मैदान में उतरेगी। पहले चरण में 9 जिलों में चुनाव होना है।

जिला परिषद और पंचायत समिति सदस्य के लिए 30 अक्टूबर और पंच-सरपंच के लिए 2 नवंबर को मतदान होना है। पंचकूला, यमुनानगर और नूंह की जिला इकाइयों ने इसकी जानकारी प्रदेश नेतृत्व को दे दी है। बाकी 6 जिलों के सिंबल से दूरी बनाने के 3 प्रमुख कारण सामने आए हैं…

सिंबल पर चुनाव नहीं लड़ने के 3 कारण

1. इन जिलों में कैंडिडेट ज्यादा होने के कारण चुनाव में सिंबल का प्रयोग नहीं करना चाहती। अगर एक नेता को सिंबल दे दिया तो दूसरे नाराज हो जाएंगे। वहीं बिना सिंबल जीतने वाले को ही अपना कैंडिडेट बता सकते हैं।

2. बिना सिंबल के यदि चुनाव लड़ते हैं तो वह दूसरे दलों के वोटरों को भी हासिल कर सकते हैं। यह चुनाव स्थानीय स्तर पर हैं, ऐसे में उम्मीदवार के आगे पार्टीबाजी की बंदिश न आए, इसलिए भी भाजपा सिंबल से पीछे हटी है।

3. किसान आंदोलन भी बड़ी वजह है। गांवों में अगर इसका असर दिखा तो सिंबल की वजह से भाजपा का विरोध होगा और उन्हें वोट नहीं मिलेगा। ऐसे में राजनीतिक नुकसान होना तय है।

नगर पालिका और नगर निकाय चुनावों में लग चुका झटका
हरियाणा में कुछ महीने पहले 46 नगर पालिकाओं के चुनाव हुए थे। इनमें से BJP ने 22 नगर निकायों पर जीत हासिल की थी। वहीं गठबंधन सहयोगी JJP ने तीन नगर निकायों में जीत हासिल की थी।

JJP भी BJP की राह पर
BJP की तरह गठबंधन सहयोगी JJP ने भी जिला परिषद के चुनाव सिंबल पर लड़ने का फैसला जिला इकाइयों पर छोड़ दिया है। हालांकि दोनों पार्टियों ने पंचायती राज संस्थाओं के ग्राम पंच, सरपंच और प्रखंड समिति के सदस्यों का चुनाव पार्टी चिन्ह पर नहीं लड़ने का फैसला किया है। प्रधान विपक्षी दल कांग्रेस कोई भी चुनाव पंच, सरपंच, ब्लॉक समिति के सदस्य और जिला परिषद सदस्य पार्टी के चिन्ह पर नहीं लड़ेगी।

यमुनानगर में महिलाओं को 50% कोटा
यमुनानगर जिले में जिला परिषद की कुल 18 सीटों में से 50% सीटें महिलाओं के लिए फिक्स की गई हैं। राज्य में कुल 22 जिले हैं और 18 जिलों के लिए चुनाव कार्यक्रम पहले ही घोषित किए जा चुके हैं।

हरियाणा में पंच-सरपंच के लिए मूल निवास जरूरी नहीं:कैंडिडेट का मतदाता सूची में नाम ही काफी; राज्य चुनाव आयोग ने दिए निर्देश

हरियाणा के पंचायत चुनाव में पंच या सरपंच पद पर चुनाव लड़ने के लिए मूल निवास (डोमिसाइल) प्रमाण पत्र जरूरी नहीं है। चुनाव लड़ने के इच्छुक व्यक्ति का नाम वोटर सूची में होना ही काफी है। चुनाव आयोग ने इस संबंध में सभी जिलों के डिप्टी कमिश्नरों को एडवाइजरी …पूरी खबर पढ़ने के लिए क्लिक करें

खबरें और भी हैं…

Source link

Related Articles

Back to top button