Haryana

साइबर क्राइम: आईटी कंपनी का वेब डिजाइनर बनाता था फर्जी वेबसाइट, 2 काबू

हिसारएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक

साइबर क्राइम थाना पुलिस ने क्रेडिट कार्ड रिवाॅर्ड प्वाइंट रिडीम के नाम पर ठगी में शामिल पटेल नगर के 2 ठगाें सहित आइटी प्राेफेशनल वेब डिजाइनर काे पकड़कर सलाखाें के पीछे भेजा है। पुलिस पूछताछ में दिल्ली के शाहदरा स्थित दुर्गापुरी वासी विपुल गुप्ता ने कबूला था कि द्वारका स्थित आइटी कंपनी में 90 हजार रुपये मासिक वेतन में काम करता है।

करीब चार माह से पटेल नगर के ठग करण व शुभम के कहने पर विभिन्न बैंकाें की फर्जी वेबसाइट तैयार करके देता था। एक वेबसाइट बनाने की एवज में उनसे 15 हजार रुपये मिलते थे। करीब 20 फर्जी वेबसाइट तैयार करके दे चुका था। गुप्ता ने बताया था कि वह पार्ट टाइम वेबसाइट बनाने का काम करता था।

इसके लिए साेशल मीडिया पर अपनी डिटेल्स व फाेन नंबर पाेस्ट किया था। वहां से ठगाें ने नंबर लेकर संपर्क किया था। साइबर क्राइम थाना में जांच अधिकारी राजाराम ने बताया कि आराेपी ठग वेबसाइट से जुड़ा मैसेज क्रेडिट कार्ड धारक काे भेजे थे। उसमें एक लिंक हाेता था। धारक काे क्रेडिट कार्ड प्वाइंट रिडीम का झांसा देकर लिंक खुलवाकर फर्जी वेबसाइट में डिटेल्स भरवाकर कार्ड से पैसा उड़ाते थे।

ऐसे पहचाने फर्जी लिंक

साइबर क्राइम थाना में तैनात साइबर एक्सपर्ट एचसी नरेश कुमार ने बताया कि वेबसाइट वही सुरक्षित माने जिसमें एचटीटीपीएस यानी हाइपरटेक्स्ट ट्रांसफर प्रोटोकॉल सिक्योर लिखा हाे। ऐसा नहीं है ताे वेबसाइट पर अपने बैंक खाते या डेबिट-क्रेडिट कार्ड्स की गाेपनीय डिटेल्स न दर्ज करें।

टेक्सट मैसेज के नीचे आए लिंक पर क्लिक न करें। लिंक आया है ताे उसका सत्यापन बैंक कस्टमर केयर से जरूर करें। अनजान नंबर या मैसेज पर त्वरित प्रतिक्रिया साइबर क्रिमिनल्स काे लाभ पहुंचा सकती है। ठगी हाेने पर 1930 पर काॅल जरूर करें।

खबरें और भी हैं…

Source link

Related Articles

Back to top button