Haryana

रोहतक में ब्लास्ट: एक बुजुर्ग घायल; नक्सलियों से तार जुड़ने का संदेह, हाई अलर्ट घोषित

रोहतक20 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

राेहतक | विस्फाेट के बाद जांच करती पुलिस।

  • 15 अगस्त से पहले साजिश की आशंका

रोहतक में शनिवार सुबह 6 बजे एक इलेक्ट्रिक डेटोनेटर विस्फोट हुआ। इसकी चपेट में आकर 60 वर्षीय बुजुर्ग गंभीर रूप से घायल हो गया। विस्फोट कम क्षमता का था। फिर भी बुजुर्ग राजकुमार के गाल का मांस निकल गया और बाएं हाथ की दो अंगुलियां और अंगूठा अलग हो गए। वे पीजीआई में भर्ती हैं। 15 अगस्त के मौके पर एनसीआर में विस्फोट के चलते सुरक्षा व खुफिया एजेंसियां तुरंत सक्रिय हो गईं। पुलिस, बम निरोधक दस्ता, एफएसएल, डाॅग स्क्वॉयड टीम मौके पर पहुंची।

सूत्रों के अनुसार, देर शाम पुलिस को कुछ ऐसे इनपुट भी मिले, जिनमें विस्फोट के पीछे नक्सली कनेक्शन की आशंका है। पुलिस घटनास्थल से ढाई किमी दूर आईएमटी एरिया में बड़ा सर्च ऑपरेशन चलाने की तैयारी में है। यहां 1200 से ज्यादा औद्योगिक इकाइयाें में बिहार, झारखंड और छत्तीसगढ़ से हजारों लोग काम करते हैं।

राेहतक | बुजुर्ग का फटा हाथ।

राेहतक | बुजुर्ग का फटा हाथ।

विस्फोट के 15 मिनट बाद ही रोहतक और बहादुरगढ़ में हाई अलर्ट जारी, सीमाएं सील

विस्फोट में घायल राजकुमार को बाइक पर लेकर उसके दोस्त खरावड़ चौकी पहुंचे और पुलिस को धमाके की जानकारी दी। सुबह 6:15 बजे रोहतक में

कर सीमाएं सील कर दी गईं। बहादुरगढ़ में भी हाई अलर्ट घोषित किया गया। एडीजीपी संदीप खिरवार, एसपी राहुल शर्मा सहित कई पुलिस अफसर मौके पर पहुंचे।

इसी जगह पर 10 दिन पहले भी हुआ था धमाका, तब शिकायत नहीं दी

छानबीन में पुलिस को पता चला कि 10 दिन पहले भी इसी जगह पर एक और धमाका हुआ था। गांव का एक दामाद खेतों में लगे हैंडपंप के पास गया था। उसने वहां पड़ी थैली को उठाकर फेंका तो विस्फोट हो गया। उसके हाथ में मामूली चोट लगी थी। ग्रामीणों ने उस धमाके को सामान्य माना और पुलिस को शिकायत नहीं दी थी। शनिवार को भी राजकुमार अपने तीन दोस्तों के साथ सैर करने निकले थे। हैंडपंप के पास पड़ी थैली उठाकर फेंकते ही धमाका हो गया।

बोतल में तार व काली टेप नजर आ रही है। पुलिस मान रही है कि फटने के बावजूद इलेक्ट्रिक डेटोनेटर का ये पार्ट स्पार्क न होने की वजह से बच गया इसे सबसे अहम सबूत माना जा रहा है। पुलिस सूत्रों के अनुसार केंद्रीय इंटेलिजेंस ब्यूरो ने रोहतक पुलिस को इस बोतल को ज्यों का त्यों रखने के निर्देश दिए हैं। केंद्र से टीम आकर जांच करेगी।

स्कूल के मॉडल प्रोजेक्ट में काम आने वाली कई छोटी बैटरियों को जोड़ रखा था

पुलिस की अभी तक की जांच में सामने आया है कि ये एक प्रकार का इलेक्ट्रिक डेटोनेटर था। इसमें स्कूल लेवल पर मॉडल प्रोजेक्ट के दौरान प्रयोग होने वाली छोटी बैटरियों को आपस में जोड़कर प्लास्टिक की छोटी कोल्ड ड्रिंक की बोतलों में रखा गया था। पुलिस ने घटनास्थल से तार के टुकड़े और बैटरियों के अवशेष कब्जे में लेकर लैब भेज दिए हैं।

सैर पर जाने वाले 4 दोस्त हो सकते थे बड़ी अनहोनी का शिकार, राजकुमार कचरा हटाने के चक्कर में गंवा बैठा हाथ की अंगुली

रोहतक, खरावड़ गांव के पास शनिवार अलसुबह 6 बजे के करीब बम धमाके के बाद पूरे इलाके में दहशत का माहौल है। गांव खरावड़ में करीबन हर घर में विस्फोट को लेकर चर्चा है। पुलिस की कई टीमें ग्रामीणों से पिछले कुछ दिनों में दिखे संदिग्ध लोगों और घटना के बारे में जानकारी जुटा रही है। वहीं जांच में सबसे बड़ी चुनौती विस्फोट एक सुनसान जगह होना जांच को कई दिशाओं में घूमा रहा है। गांव से आईएमटी एरिया की ओर जाने वाले रोड पर बाबा जोगीवाला मंदिर के पास सुनसान पड़ी इस जगह पर कुछ ही ग्रामीण जाते हैं।

पिछले कुछ दिनों से गांव में ही इलेक्ट्रॉनिक की दुकान चलाने वाले राजकुमार, सेना से रिटायर्ड सुभाष, नरेश व गीतादत्त रोजाना सैर के लिए इस एरिया में जाते थे। इनमें राजकुमार पैरों में तकलीफ के चलते साइकिल पर वहां पहुंचते थे। पूर्व फौजी सुभाष के अनुसार यहां एक खेत में झाड़ियों के झुंड के बीच एक हैंडपंप है। शनिवार को भी सुबह करीब 6 बजे चारों वहां पर पहुंचे थे। नरेश हैंडपंप पर कुरला करके कुछ दूरी पर चला गया था।

इसके बाद गीतादत्त जब हैंडपंप से एक बोतल में पानी भर रहे थे तो उसी दौरान राजकुमार ने वहां पड़ी सफेद पॉलीथिन थैली को उठाकर फेंकने की कोशिश की थी। उठाते ही उसमें विस्फोट हो गया। रात को पीजीआई में ऑपरेशन दौरान राजकुमार के एक हाथ की अंगुली काटनी पड़ी। वहीं मामले में पुलिस की जांच कई दिशाओं में घूम रही है। पुलिस को ये एंगल स्पष्ट नहीं हो पा रहा कि इस सुनसान इलाके में जहां लोगों की आवाजाही काफी कम है वहां ये विस्फोट किसी उद्देश्य से रखा गया। पुलिस संदिग्ध की तलाश में आज बड़ा सर्च ऑपरेशन चलाएगी।

हाई अलर्ट मोड में जिला, पुलिस कई एंगल से कर रही जांच
दरअसल रोहतक जिले को पुलिस खुफिया तंत्र की रिपोर्ट में अति संवेदनशील माना गया है। बहादुरगढ़ टिकरी बाॅर्डर पर चल रहे किसान आंदोलन के चलते जिले में खुफिया तंत्र हाई अलर्ट मोड में पिछले कई दिनों से है। आईएमटी भी घटनास्थल से महज कुछ किलोमीटर की दूरी पर है। ऐसे में किसी साजिश के तहत ट्रायल के तौर पर धमाका न किया गया हो। घटनास्थल का एडीजीपी संदीप खिरवार, एसपी राहुल शर्मा,एएसपी कृष्ण कुमार की टीम ने निरीक्षण किया। एफएसएल प्रभारी डॉ. सरोज दहिया मलिक, डॉग स्क्वायड टीम, बम निरोधक दस्ते की टीम ने मौके से साक्ष्य जुटाए।

घटनास्थल के 200 मीटर का एरिया सील, रात भर पुलिस रही पहरे पर
धमाके के बाद पुलिस की ओर से घटनास्थल के करीब 200 मीटर दूर के एरिया को सील कर दिया गया है। रात को भी घटना स्थल के आसपास के एरिया में पुलिस के जवान तैनात कर दिए गए हैं। यहां रात भर पुलिस का पहरा रहा। वहीं रविवार को केंद्रीय सुरक्षा एजेंसी भी इस संबंध में इनपुट जुटा सकती है। हालांकि रोहतक पुलिस लगातार इंटेलीजेंस के संपर्क में है।

मैं आधा एकड़ दूर जा चुका था, पहले समझ नहीं आया, चीख सुनकर लौटा
रोजाना गांव के मंदिर के पास झाड़ियों की ओर घूमने जाते हैं। शनिवार को भी करीब 6 बजे से पहले हम पहुंच गए थे। वहां एक हैंडपंप लगा है। पंप से करीब दो-ढाई फीट दूर मैंने एक सफेद पॉलीथिन की थैली पड़ी भी देखी थी। करीब आधा एकड़ दूर ही पहुंचा था कि धमाका हुआ। पहले तो समझ हीं नहीं पाया कि क्या हुआ है और आवाज किस ओर से आई है। तभी गीतादत्त ने आवाज देकर मुझे वहां बुलाया। राजकुमार घायल था। उसके चेहरे और हाथों पर गंभीर चोट थी। वहां से कार में उसे पीजीआई लेकर पहुंचे।-जैसा की घटना के वक्त राजकुमार के साथ मौजूद नरेश ने बताया

मैंने कहा था थैली पड़ी रहने दे, पता नहीं क्या कचरा होगा, लेकिन उठा ली
मैं फौज से रिटायर्ड हूं। रोज अपने साथी राजकुमार, नरेश और गीतादत्त के साथ सैर करने यहां आता हूं। राजकुमार के पैरों में दिक्कत रहती है वो साइकिल पर हमारे साथ-साथ आता है। आज सुबह मैं पानी पीने के बाद हैंडपंप से कुछ ही दूरी पर चला था। तब विस्फोट हुआ। कुछ सेकंड पहले ही राजकुमार ने गंदगी हटाने की कह थैली फेंकने की बात कही थी। मैंने मना करते हुए कहा था कि पड़ी रहने दे। पता नहीं क्या कचरा होगा। लेकिन राजकुमार ने इसी बीच वो थैली उठा ली। एक ही सेकंड में धमका हो गया।-जैसा की घटना के प्रत्यक्षदर्शी फौजी सुभाष ने बताया

सुबह सैर को जाते थे, धमाके का पता चला तो जान ही निकल गई
इन्होंने रोजाना सैर पर जाने का नियम बना रखा है। पिछले कई दिनों से पैरों में दिक्कत रहती है तो साइकिल लेकर जाते हैं। शनिवार को भी सुबह साढ़े 5 बजे घर से गए थे। सवा 6 बजे हमें पता चला कि बाबा जोगीवाला मंदिर के पास कोई विस्फोट हुआ है। इन्हें पीजीआई लेकर जा रहे हैं। मेरी तो जान ही निकल गई। तीन बेटियों में दो शादीशुदा हैं। बेटा एसएसबी की ट्रेनिंग पर गया हुआ है। भगवान से दुआ मांग रही हूं की अनहोनी टल जाए और इनकी जान सलामत रहे।-जैसा की घायल राजकुमार के घर पर मौजूद उनकी पत्नी आशा ने बताया

बेटे के घर लौटने की राह देख रही 95 वर्षीय मां, हर आने वाले से पूछती है

विस्फोटक पदार्थ से घायल हुए राजकुमार का पीजीआई में इलाज चल रहा है। खरावड़ स्थित घर पर उनकी 95 वर्षीय मां धम्मल देवी सुबह से बेटे के सकुशल घर लौटने की उम्मीद लिए रास्ता देख रही हैं। हर आने जाने वाले से बेटे का हालचाल पूछती हैं। कहती हैं कि डॉक्टर इलाज कर उसको ऐसा कर दें कि वह कमाने खाने लायक हो जाए। घर में घायल की पत्नी आशा देवी, छोटी बेटी रीना है। बेटा नीरज सशस्त्र सेना बल की ट्रेनिंग पर गया हुआ है। जबकि दो बड़ी बेटियां कविता व बबिता की शादी सेक्टर-3 निवासी कैप्टन अर्जुन सिंह के बेटे विनीत व विनय के संग हुई है।

खबरें और भी हैं…

Source link

Related Articles

Back to top button