Haryana

फरीदाबाद में लाला का साम्राज्य ध्वस्त: 21 संगीन मामले दर्ज; मछली मार्केट में बदमाश की 18 इमारत पर चलाया बुलडोजर

फरीदाबाद12 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

मंगलवार को लाला के साम्राज्य पर बुलडोजर चलाता हुआ।

हरियाणा के फरीदाबाद शहर में नशा तस्करी के सबसे बड़े चेहरे बदमाश बिजेन्द्र उर्फ लाला के काले साम्राज्य को मंगलवार को प्रशासन और पुलिस की टीम ने मिलकर ध्वस्त कर दिया। लाला ने गैरकानूनी धंधे से कमाई कर अवैध कब्जा कर सेक्टर-22 की मछली मार्केट में 18 इमारते बनाई थी, जिनपर प्रशासन ने बुलडोजर चला दिया है।

लाला के अपराध की लिस्ट बहुत लंबी

बता दें कि फरीदाबाद शहर के रहने वाले बिजेन्द्र उर्फ लाला नाम के बदमाश की कुछ साल पहले जेल मौत हो चुकी है। उसने शुरूआत में शराब का अवैध कारोबार शुरू किया। इसके बाद वह धीरे-धीरे नशे के साथ-साथ संगीन अपराध की दुनिया से जुड़ गया। उसने अपराध जगत में खुद का अव्वल रखने के लिए शराब के साथ-साथ ड्रग्स का धंधा शुरू कर दिया। फरीदाबाद पुलिस के रिकॉर्ड में लाला के अपराध लिस्ट बहुत लंबी है। उस पर हत्या, हत्या का प्रयास, एनडीपीएस, लड़ाई-झगड़ा व शराब तस्करी के 21 मुकदमें दर्ज है।

मृतक बिजेन्द्र उर्फ लाला का फाइल फोटो।

मृतक बिजेन्द्र उर्फ लाला का फाइल फोटो।

सरकारी जमीन पर खड़ी की 18 इमारत

पुलिस प्रवक्ता सूबे सिंह ने बताया कि पिछले कुछ दिनों में फरीदाबाद पुलिस ने अवैध तरीके से कमाई गई काफी संपत्ति ध्वस्त की है। मंगलवार को फरीदाबाद पुलिस ने नशा तस्कर लाला द्वारा नशा व शराब तस्करी करके केंद्रीय लोक निर्माण विभाग की भूमि पर अवैध कब्जा कर बनाई गई 18 इमारतों को ध्वस्त किया गया है, जिसमें 11 दुकानें, 3 मकान, 3 गोदाम व 1 ऑफिस शामिल है। केंद्र सरकार की यहां 35 एकड़ भूमि है, जिसमें करीब डेढ़ एकड़ जमीन पर कई जगह अवैध कब्जे किए हुए थे।

कई बार दिए नोटिस, फिर चला बुलडोजर

प्रशासन द्वारा अवैध कब्जा हटाने के लिए कई बार नोटिस दिया गया, लेकिन आरोपियों ने इस पर कभी ध्यान नहीं दिया। इसके बाद डीसी विक्रम कुमार के दिशा निर्देश पर नायब तहसीलदार बड़खल सुरेश कुमार, नायब तहसीलदार धौज करण कुमार तथा एमसीएफ एक्सईएन पदम भूषण को ड्यूटी मजिस्ट्रेट नियुक्त किया गया। तोड़फोड़ से 1 दिन पहले डीसीपी एनआईटी नरेंद्र कादियान के नेतृत्व में फ्लैग मार्च निकालकर नागरिकों को नशे के खिलाफ जागरूक किया गया।

वर्ष 2011 में किया कब्जा

नशा तस्कर लाला की कुछ साल पहले मौत हो गई थी। शुरू में वह शराब तस्करी करने लगा और वर्ष 2011 से अवैध मकान बनाकर रह रहा था। इसके बाद लाला पर हत्या, नशा तस्करी, लड़ाई झगड़ा के अलावा कई संगीन धाराओं में मामले दर्ज हुए। लाला काफी समय तक जेल में भी रहा, लेकिन जेल के अंदर होने के बावजूद इसके गुर्गे नशे के अवैध कारोबार को संभालते रहे, जिससे लाला ने करोड़ों रुपए की संपत्ति बना ली। लाला की मौत के बाद इस संपत्ति पर उसके परिवार के लोग काबिज थे।

एक साल पहले 1.31 करोड़ रुपए पकड़े थे

करीब एक साल पहले फरीदाबाद क्राइम ब्रांच बार्डर की टीम ने शहर के सबसे बड़े नशा तस्कर बिजेन्द्र उर्फ लाला के रिश्तेदार के घर छापा मारकर 500-500 रुपए से भरा बैग बरामद किया था, जिसमें करीब 1.13 करेाड़ रुपए मिले थे। मौके से लाला के रिश्तेदार एनआईटी निवासी अमित को पकड़ा था। सुमित लाला का साला है।

खबरें और भी हैं…

Source link

Related Articles

Back to top button